fbpx

What causes miscarriage ! अचानक ही गर्भपात होने वाली समस्या से बचना चाहती है तो जानिएं ये लक्षण।

October 14, 2020

 

बार बार होने वाले गर्भपात की समस्या बचने के लिए तुरंत करवाएं इलाज।


नाहन, 
आधुनिक जीवन में खान पान व सुविधाओं की भरमार के चलते हम सभी के स्वास्थ में काफी तब्दीलियां आ रही है। वही गर्भ धारण करने में महिलाओ को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। अधिकांश महिलाओं को बार-बार गर्भपात होने की समस्या से जूझना पड़ रहा है। कई बार तो महिलाओं को पता ही नहीं चल पाता कि वे गर्भवती हो गई है। इस बात से बेखबर वे आम दिनों कि तरह दिनचर्या बीता रही होती है। कई तरह की बातों का तनाव होना तो आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में सामान्य सा हो गया है। ऐसे में यह देखने में आता है कि कई बार महिलाओं का गर्भपात हो जाता है, वो भी ऐसे वक्त जब उन्हें पता भी नहीं होता कि वे गर्भवती थी। बार बार गर्भपात की होने की लक्षणों के बारे में बता रहीं है श्री साई अस्तताल की वरिष्ठ बांझपन व स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ श्रद्वा बेदी। वह बताती है कि कई मामलों में प्रेगनेंसी के 15 हफ्ते के भीतर ही गर्भपात हो जाता है और महिलाओं को पता भी नहीं चल पाता। ऐसे में जरूरी है कि महिलाओं को गर्भपात यानी की एबॉर्शन होने के लक्षणों के बारें में बताया जाए, जिससे इस तरह का कोई भी संकेत मिलने पर वे तुरंत डॉक्टर के पास जा सके।

किसी भी प्रकार के रक्तसा्रव को न करेें नजर अंदाज


गर्भावस्था के शुरूवाती दिनों में यदि आपको रक्तसा्रव हो रहा है, तो इसका मतलब गर्भपात ही हो ऐसा जरूरी नहीं। आमतौर पर शुरूवाती दिनों में हल्की ब्लीडिंग होना सामान्य होता है लेकिन चिंताजनक तब हैं जब आपको स्पॉटिंग या थक्को के साथ ज्यादा ब्लीडिंग हो और ब्लीडिंग के दौरान ब्लड का रंग भूरा या गहरा लाल हो। तो ऐसी परिस्थिति में तुरंत ही अपने डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए। जिससे समय रहते गर्भपात की समस्या को दूर किया जा सकें।

पेल्विक ऐरियां में दबाव


महिलाओं को प्रेगनेंसी के दौरान पेल्विक एरिया के आस-पास हल्का सा दबाव पडऩे लगता है। प्रसव होने से पूर्व वाला संकुचन जैसा भी उन्हें लगने लगता है। इसका मतलब है कि आपका गर्भाशय ग्रीवा कमज़ोर हो रहा है। शुरुआती महीनों में इस तरह का संकुचन नहीं होना चाहिए ऐसा होने पर यह भी गर्भपात का संकेत हो सकता है। कई बार हल्की ब्लीडिंग और दर्द के बाद भी गर्भपात के और कोई लक्षण न दिखें, तो ऐसे में आपको तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए। कई बार आधा गर्भपात हो जाता है और आधा अंदर ही रह जाता है ऐसे में पूरा गर्भपात डॉक्टर से कराना आवशयक है, नहीं तो आपकी सेहत को बढ़ा नुकसान हो सकता है।

पीठ के निचले हिस्से में लगातार दर्द होना

 
बैक पेन व पीठ के नीचले हिस्से में दर्द होना गर्भपात का संकेत हो सकता है। प्रेगनेंसीमें वाइट डिस्चार्ज होना सामान्य है, लेकिन यदि इसमें से किसी प्रकार की गंध आए, तो यह किसी तरह का इन्फेक्शन हो सकता है।
यदि आप इनमें से किसी प्रकार की समस्या को महसूस कर रही है, तो बिना देरी किए अपनी डॉक्टर से जांच करवाएं। विदित हो कि श्री साई अस्पताल नाहन में ऐसी समस्याओं को लेकर 24 घंटे सुविधा उपलब्ध है। जिसमें अस्पताल में स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ सुविधि परूथी द्वारा सोमवार से शनिवार तक गर्भवति महिलाओं की जांच की जाती है वही प्रत्येक गुरूवार को वरिष्ठ गाइनोक्लोजिस्ट डॉ श्रद्धा बेदी द्वारा गर्भ से संंबधित समस्याओं का इलाज किया जा रहा है।
और पढ़े।
सिर्फ एक दिन में पाएं बवासीर से मुक्ति, मिलिए हर रविवार, मंगलवार व शुक्रवार को  लैप्रोस्कोपिक सर्जन, डॉ दिनेश बेदी से

Copyright by Shri Sai Hospital 2018. All Rights Reserved.