fbpx


Blog

CLASSIC LIST


October 17, 2020 News

ठंड से कैसे बचायें मासूम शिशुओंं को, पढिय़े ये स्वास्थ टिप्स

 

श्री साई अस्पताल नाहन के विशेषज्ञ बता रहें है, कैसे रखें अपने नवजात शिशुओं का ख्याल

नाहन
बारिश के बाद मौसम बदलने के साथ ही अब ठण्ड का अहसास होने लगा है। मौसम में आने वाले इस बदलाव को महसूस करके सभी लोग ठंड से बचने के प्रयास करना शुरू कर देते हैं। लेकिन ऐसे में नवजात शशिु की समस्या बढऩे लगती है। क्योंकि दूधमुंहे बच्चें चाहकर भी अपनी पीड़ा किसी को बता नहीं सकते हैं। मौसम की ठंड और हवा से बचाने के लिए शिशु को सही तरह से ढकना या कपड़े पहनाना जरूरी होता है।

सिर को ढकना है जरूरी

नवजात शिशु के सिर को हर समय ढककर रखना चाहिए। इसका कारण यह है कि सिर का तापमान अगर कम होता है, तो इसका असर पूरे शरीर पर पड़ता है। इसलिए बच्चे को ठंड से बचाने के लिए टोपी पहनाएं या सिर को किसी कपड़े से ढककर रखें। यह भी ध्यान रखें कि शिशु की टोपी ज्यादा टाइट न हो और मुलायम कपड़े की हो।

तलवों से भी लग सकती है ठंड

हमारे शरीर का तापमान कंट्रोल करने में तलवे बड़े महत्वपूर्ण होते हैं। नन्हे शिशु भले ही सारे समय बिस्तर पर लेटे रहते हैं और जमीन पर पैर नहीं रखते हैं, फिर भी उन्हें तलवों से ठंड लग सकती है। इसलिए शिशु को मोजा पहनाना या पैरों की तरफ कपड़ा लपेटना जरूरी है। मोजा पहनाने से शिशु के तलवों के साथ-साथ पूरे शरीर का तापमान नियंत्रित रहता है।

नाक को गर्म रखें


नाक एक महत्वपूर्ण अंग है। ज्यादातर जम्र्स, बैक्टीरिया और हानिकारक धुंआ आदि शिशु के नाक के रास्ते ही उसके शरीर में प्रवेश करते हैं। इसलिए शिशु के नाक की सुरक्षा करनी भी जरूरी है। मगर इसके लिए आपको शिशु की नाक को ढकना नहीं है, क्योंकि बहुत महीन कपड़ा भी उसको सांस लेने में तकलीफ पैदा कर सकता है। इसके बजाय यह करें कि शिशु की नाक को बीच-बीच में गर्म हाथों से सिंकाई करें या गर्म तेल से मसाज करें। कोशिश करें कि कमरे का तापमान बहुत कम न हो।

हाथों से ठंड

ठंड के मौसम में शिशु को कई बार हाथों से भी ठंड लग जाती है। इसलिए शिशु को हाथों में मुलायम दस्ताने पहनाएं और पूरी बांह के कपड़े पहनाएं। लेकिन ध्यान रखें कि रात में सुलाते समय शिशु के शरीर को (मुंह नहीं) कंबल से ढकें, तब दस्ताने न पहनाएं, अन्यथा शिशु की नींद प्रभावित हो सकती है।

शरीर को गर्म रखने के लिए मसाज करें


शिशु के शरीर को गर्म रखने के लिए तेल की मसाज बहुत फायदेमंद होती है। ठंडे मौसम में शिशु की मसाज के लिए सरसों का तेल बेस्ट होता है। अगर आपके शिशु को हल्की जुकाम या सर्दी लगने के लक्षण हैं तो आप सरसों के तेल में ही अजवायन और कटे हुए लहसुन के टुकड़े गर्म करके उस तेल से मालिश करें। दिन में कम से कम 1 बार मालिश करना जरूरी है। लेकिन इसके लिए बहुत सुबह या बहुत रात का समय न चुनें। सबसे अच्छा समय है कि आप धूप में शिशु को लेकर उसके सारे कपड़े उतारकर मालिश करें, ताकि उसे ठंड भी न लगे और शरीर की मालिश भी हो जाए।
What causes miscarriage ! अचानक  ही गर्भपात होने वाली समस्या से बचना चाहती है तो जानिएं ये लक्षण।


October 14, 2020 News

 

बार बार होने वाले गर्भपात की समस्या बचने के लिए तुरंत करवाएं इलाज।


नाहन, 
आधुनिक जीवन में खान पान व सुविधाओं की भरमार के चलते हम सभी के स्वास्थ में काफी तब्दीलियां आ रही है। वही गर्भ धारण करने में महिलाओ को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। अधिकांश महिलाओं को बार-बार गर्भपात होने की समस्या से जूझना पड़ रहा है। कई बार तो महिलाओं को पता ही नहीं चल पाता कि वे गर्भवती हो गई है। इस बात से बेखबर वे आम दिनों कि तरह दिनचर्या बीता रही होती है। कई तरह की बातों का तनाव होना तो आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में सामान्य सा हो गया है। ऐसे में यह देखने में आता है कि कई बार महिलाओं का गर्भपात हो जाता है, वो भी ऐसे वक्त जब उन्हें पता भी नहीं होता कि वे गर्भवती थी। बार बार गर्भपात की होने की लक्षणों के बारे में बता रहीं है श्री साई अस्तताल की वरिष्ठ बांझपन व स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ श्रद्वा बेदी। वह बताती है कि कई मामलों में प्रेगनेंसी के 15 हफ्ते के भीतर ही गर्भपात हो जाता है और महिलाओं को पता भी नहीं चल पाता। ऐसे में जरूरी है कि महिलाओं को गर्भपात यानी की एबॉर्शन होने के लक्षणों के बारें में बताया जाए, जिससे इस तरह का कोई भी संकेत मिलने पर वे तुरंत डॉक्टर के पास जा सके।

किसी भी प्रकार के रक्तसा्रव को न करेें नजर अंदाज


गर्भावस्था के शुरूवाती दिनों में यदि आपको रक्तसा्रव हो रहा है, तो इसका मतलब गर्भपात ही हो ऐसा जरूरी नहीं। आमतौर पर शुरूवाती दिनों में हल्की ब्लीडिंग होना सामान्य होता है लेकिन चिंताजनक तब हैं जब आपको स्पॉटिंग या थक्को के साथ ज्यादा ब्लीडिंग हो और ब्लीडिंग के दौरान ब्लड का रंग भूरा या गहरा लाल हो। तो ऐसी परिस्थिति में तुरंत ही अपने डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए। जिससे समय रहते गर्भपात की समस्या को दूर किया जा सकें।

पेल्विक ऐरियां में दबाव


महिलाओं को प्रेगनेंसी के दौरान पेल्विक एरिया के आस-पास हल्का सा दबाव पडऩे लगता है। प्रसव होने से पूर्व वाला संकुचन जैसा भी उन्हें लगने लगता है। इसका मतलब है कि आपका गर्भाशय ग्रीवा कमज़ोर हो रहा है। शुरुआती महीनों में इस तरह का संकुचन नहीं होना चाहिए ऐसा होने पर यह भी गर्भपात का संकेत हो सकता है। कई बार हल्की ब्लीडिंग और दर्द के बाद भी गर्भपात के और कोई लक्षण न दिखें, तो ऐसे में आपको तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए। कई बार आधा गर्भपात हो जाता है और आधा अंदर ही रह जाता है ऐसे में पूरा गर्भपात डॉक्टर से कराना आवशयक है, नहीं तो आपकी सेहत को बढ़ा नुकसान हो सकता है।

पीठ के निचले हिस्से में लगातार दर्द होना

 
बैक पेन व पीठ के नीचले हिस्से में दर्द होना गर्भपात का संकेत हो सकता है। प्रेगनेंसीमें वाइट डिस्चार्ज होना सामान्य है, लेकिन यदि इसमें से किसी प्रकार की गंध आए, तो यह किसी तरह का इन्फेक्शन हो सकता है।
यदि आप इनमें से किसी प्रकार की समस्या को महसूस कर रही है, तो बिना देरी किए अपनी डॉक्टर से जांच करवाएं। विदित हो कि श्री साई अस्पताल नाहन में ऐसी समस्याओं को लेकर 24 घंटे सुविधा उपलब्ध है। जिसमें अस्पताल में स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ सुविधि परूथी द्वारा सोमवार से शनिवार तक गर्भवति महिलाओं की जांच की जाती है वही प्रत्येक गुरूवार को वरिष्ठ गाइनोक्लोजिस्ट डॉ श्रद्धा बेदी द्वारा गर्भ से संंबधित समस्याओं का इलाज किया जा रहा है।
और पढ़े।
सिर्फ एक दिन में पाएं बवासीर से मुक्ति, मिलिए हर रविवार, मंगलवार व शुक्रवार को  लैप्रोस्कोपिक सर्जन, डॉ दिनेश बेदी से

WhatsApp-Image-2020-09-18-at-3.18.24-PM-1200x900.jpeg

September 18, 2020 News

अंकुश एवं अभिषेक बने “बेस्ट एम्प्लॉई ऑफ़ द मंथ”

 

श्री साईं मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल एवं ट्रामा सेंटर , नाहन में अगस्त माह के सर्वश्रेष्ठ कर्मचारी का चयन किया गया। इस माह श्री साईं मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल एवं ट्रामा सेंटर , नाहन में कार्येरत अंकुश एवं अभिशेक को “बेस्ट एम्प्लॉई ऑफ़ द मंथ” के ख़िताब से नवाजा गया। अंकुश राजपूत ,लैब टेक्नीशियन के पद पर अपनी सेवाएं दे रहें है जबकि अभिषेक श्री साईं मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल एवं ट्रामा सेंटर , नाहन में हेल्पर के पद पर कार्यरत है।

 

अंकुश राजपूत, लैब टेक्नीशियन

अभिषेक,  हेल्पर

अगस्त माह में उत्कृष्ट कार्य करने पर इन दोनों का नाम चयनित किया गया। इस अवसर पर श्री साईं मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल एवं ट्रामा सेंटर , नाहन के निदेशक डॉ दिनेश बेदी जी ने सर्वश्रेष्ठ कर्मचारी चयनित होने पर दोनों को बधाई दी व् सभी कर्मचारियों को आगे आने वाले समय में सर्वश्रेष्ठ कर्मचारी बनने के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने ने कहा की व्यक्ति किसी भी कार्य से जुड़ा हो उसे अपने कर्म क्षेत्र के साथ हमेशा ईमानदारी बरतनी चाहिए यही एक सफल व्यक्ति का मूल मन्त्र है।


 सर्वश्रेष्ठ कर्मचारी कार्येक्रम का आयोजन आज श्री साईं मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल एवं ट्रामा सेंटर , नाहन के सभागार में किया गया। सर्वश्रेष्ठ कर्मचारी को प्रशश्ति पत्र एवं ट्रॉफी उपहार स्वरुप दिया गया। इस मौके पर लैब टेक्नीशियन अंकुश व् अभिषेक ने अस्पताल प्रसाशन का धन्यवाद किया व अपने सभी सहयोगियों को प्रेरणा दी की वे भी आने वाले समय में अपना अच्छा प्रदर्शन दें और सर्वश्रेष्ठ कर्मचारी बनें।



September 12, 2020 News

श्री साईं हॉस्पिटल परिसर में किया गया सैनिटिज़ेशन

श्री साईं मल्टी स्पेशलिटी हॉस्पिटल एवं ट्रॉमा सेंटर , नाहन के हॉस्पिटल परिसर में विश्व स्वाथ्य संगठन की दिशा निर्देशों के अनुसार शनिवार को सैनिटिज़ेशन किया गया । कोरोना वायरस के चलते श्री साईं मल्टी स्पेशलिटी हॉस्पिटल एवं ट्रॉमा सेंटर , नाहन में पुख्ता इंतज़ाम किये गए है। इसी कड़ी में पुरे हॉस्पिटल परिसर को सैनिटीज़ किया गया। प्रत्येक वार्ड , रूम , रिसेप्शन एरिया, डॉक्टर OPD, पार्किंग एरिया सभी जगह डिसइंफेक्टेंट का छिड़काव किया गया।

कोरोना वायरस जिस प्रकार से पैर पसार रहा है। ऐसे में जरूरी है कि हम सब अपना खास ध्यान रखें और इस वायरस की चपेट में आने से बचे। जब तक इस खतरनाक वायरस कि कोई वैक्सीन नहीं बन जाती है तब तक सैनिटाइजेशन ही केवल एक मात्र उपचार हैं । इसलिए हमें अपने अपने आस पास को हमेशा सेनीटाइज करना बेहद जरूरी है। उसी के मद्दे नज़र पुरे अस्पताल की सफाई व् डिसइंफेक्शन का ध्यान रखते हुए सैनिटिज़ेशन किया गया।

हॉस्पिटल में डी एम एस पद पर कार्यरत प्रमोद रेडू ने बताया की कोरोना जंग से लड़ने के लिए साईं हॉस्पिटल पूरी तरहां से तैयार है। सभी की सुरक्षा के लिए अस्पताल में पूरा ध्यान दिया जा रहा है। शनिवार को पुरे अस्पताल को सैनिटिज़ेशन किया गया। इस के लिए एक नोडल ऑफिसर की नियुक्ति की गयी है जिसकी देख रेख में हॉस्पिटल की साफ़ सफाई का ध्यान रखा जा रहा है। सभी स्टाफ को फेस शील्ड , मास्क , ग्लव्स, हेड कवर दिए गए है। साथ ही आई सी यु, इमरजेंसी स्टाफ व टेक्निशन को PPE किट दी गयी है।



September 12, 2020 News

सिर्फ एक दिन में पाएं बवासीर से मुक्ति, मिलिए इस रविवार लैप्रोस्कोपिक सर्जन, डॉ दिनेश बेदी से

बवासीर रोग से आज हर तीसरा व्यक्ति ग्रस्त है। जाने अनजाने कभी हमारे खान पान ,कभी ऑफिस में घंटों बैठ के काम करने के कारण, कभी

कभी साधारण कब्ज  को लम्बे समय तक नज़र अंदाज़ करना भी बवासीर रोग के होने के खतरे को बढ़ावा देता है। श्री साईं मल्टी स्पेशलिटी हॉस्पिटल एवं ट्रॉमा सेंटर , नाहन के पाईल्स केयर एंड क्योर सेंटर में आधुनिक लेज़र तकनीक द्वारा बिना दर्द , बिना चीरा , बिना टंका बवासीर , फिशर , फिस्टुला का सफल इलाज किया जा रहा है।

यदि आप या आपका कोई अपना बवासीर रोग से परेशान है तो मिलिए लैप्रोस्कोपिक सर्जन डॉ दिनेश बेदी से , इस रविवार श्री साई मल्टी स्पेशलिटी हॉस्पिटल एवं ट्रॉमा सेंटर , नाहन

Book Appointment

+91-70181-03200

Shri Sai Multispeciality Hospital and Trauma Centre, Nahan

“Your Hospital for Life…”



September 11, 2020 News

              नाक , कान , गला सम्बंधित बीमारियों को नज़रअंदाज़ करना हो सकता है घातक , मिलिए इस शनिवार एवं रविवार ENT Specialist , Dr. Anup Kumar Roy से। Shri Sai Multispeciality Hospital, Nahan में नाक , कान , गला सम्बंधित बीमारियाँ का इलाज किया जा रहा है । ENT Specialist, डॉ अनूप कुमार रॉय प्रत्येक शनिवार एवं रविवार Shri Sai Multispeciality Hospital, Nahan में अपनी सेवाएं दे रहे हैं।  डॉ अनूप कुमार रॉय नाक , कान , गला सम्बंधित गंभीर से गंभीर बिमारियों का सफलता पूर्वक इलाज कर रहे है।

कान सम्बंधित बीमारियाँ जैसे:
० कान में फँसी वस्तु ।
० कान का बहना ।
० कम सुनाई देना ।
० कान के पर्दे में छेद ।
० दूरबीन द्वारा कान के ऑपरेशन।


नाक सम्बंधित बीमारियाँ जैसे:

० नाक में फँसी वस्तुयें।
० नाक से खून आना ।
० नाक के मस्से ।
० एलर्जी।
० नाक की हड्डी का टूटना य टेड़ापन ।
० साईनस सम्बंधित बीमारियाँ ।

गला सम्बंधित बीमारियाँ जैसे:

० गले में सुजन एवं गठान ।
० थायरोईड।
० लार ग्रंथीयो की बीमारी ।
० गले की दुरबीन से जाँच एवं ऑपरेशन । अन्य सभी बीमारीयों का इलाज सफलता पूर्वक किया जाता हैं।

तो अब देर न करें , यदि आप या आपका कोई भी अपना नाक , कान , गला सम्बंधित रोगों से परेशान है अब इन्हें न करे नज़र अंदाज़ तुरंत संपर्क करें डॉ अनूप कुमार रॉय से।

Dr Anoop Kumar Roy
MBBS, MS (PGIMER)
DNB, MNAMS

Book Your Appointment with ENT Specialist : +91- 70181-03200

Shri Sai Multispeciality Hospital and Trauma Centre, Nahan

“Your Hospital for Life…



September 10, 2020 News

किडनी रोग से ग्रस्त है तो मिले इस शुक्रवार वरिष्ठ गुर्दा रोग विशेषज्ञ डॉ अजय गोयल से

                       यदि आप या आपका कोई अपना किडनी रोग से परेशान है। तो मिलिए हमारे गुर्दा रोग विशेषज्ञ डॉ अजय गोयल से इस शुक्रवार श्री साईं मल्टी स्पेशलिटी हॉस्पिटल एवं ट्रॉमा सेंटर नाहन में।

किडनी रोग

क्या होता है किडनी रोग : किडनी का मुख्य कार्य खून को साफ करना और शरीर से विषाक्त पदार्थ (Toxins) को बाहर निकलना है। लेकिन, जब किडनी इस कार्य कर नहीं पाती है, तो उस स्थिति को किडनी का खराब होना कहा जाता है।

क्या होते है किडनी रोग के लक्षण : किडनी की बीमारी में इस प्रकार के लक्षण देखे जातें है।
1. यदि शरीर में सूजन रहने लगे।
2. यदि भूख खत्म हो गई हो, वजन गिर रहा हो, बेहद थकान रहती हो
3. भूख एकदम गायब, बार-बार उल्टियां हो जाती हैं तो यह गैस्ट्रिक या पीलिया के कारण ही नहीं, गुर्दों की बीमारी से भी हो सकता है.
4. यदि आपको उच्च रक्तचाप की बीमारी हो और दवाइयों से भी कंट्रोल न हो रहा हो तो ऐसा किडनी के काम न करने के कारण भी हो सकता है.
5. यदि पेशाब की मात्रा पानी पीने के बावजूद बहुत कम होने लगे।
6. पेशाब में पस या स्टोन आना।
7. तेज दर्द होना।
8. बार बार व् दर्द के साथ पेशाब आना .

 

उपचार में न करें देरी : यदि आप डायबटीज़ , हाई ब्लड प्रेशर , किडनी स्टोन एवं किडनी सिस्ट से ग्रस्त हैं तो ऐसे रोगिओं को किडनी फेलियर होने की जयादा संभावनाएं होती हैं।
मिलिए हमारे गुर्दा रोग विशेषज्ञ से : डॉ. अजय गोयल , MBBS MD (General medicine) DM Nephrology (PGI), FASN MRCP(UK) ESENeph.

Book Appointment : +91- 844-844-0402 

Shri Sai Multispeciality Hospital and Trauma Centre, Nahan 
“Your Hospital for Life…”

 



September 8, 2020 News

यदि लॉक डाउन के कारण आपकी नौकरी चली गयी है और आप नई नौकरी की तलाश में है..

श्री साईं मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल एवं ट्रॉमा सेंटर , नाहन दे रहा है आपको सुनेहरा मौका । 

श्री साईं मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल एवं ट्रॉमा सेंटर नाहन , 37 जॉब पोस्ट पर भर्ती करने जा रहा है। जिसमें  8 मेडिकल ऑफिसर , 20 नर्सिंग स्टाफ, 7 लैब टेक्निशन,  2 डाटा एंट्री ऑपरेटर के पद के लिए आवेदन मंगवाएं जा रहे हैं। इंटरव्यू दिनांक  9 सितम्बर 2020, बुधवार को 11:00 बजे होंगें । यदि आपके पास है अनुभव तो आज ही करें आवेदन  , आप हमें अपना रिज्यूमे ईमेल भी कर सकते हैं  हमारा EMAIL ID  है : shrisaihospitalnahanhr@gmail.com
अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें : +9-870-8070-873

  1. मेडिकल ऑफिसर : योग्यता : एम. बी. बी. एस, / बी. ए. एम. एस ,0-5 वर्षों का अनुभव
  2. नर्सिंग स्टाफ : योग्यता : जी एन एम, / बी एस सी नर्सिंग  ,2-5 वर्षों का अनुभव
  3. लैब टेक्निशन : योग्यता : DMLT, / BSc-MLT  ,2-5 वर्षों का अनुभव
  4. डाटा एंट्री ऑपरेटर : योग्यता : स्नातक , Good computer Skill,  1-2 वर्षों का अनुभव

 



September 3, 2020 News

 

गुरूर ब्रह्मा गुरूर विष्णु, गुरु देवो महेश्वरा,
गुरु साक्षात परब्रह्म, तस्मै श्री गुरुवे नमः

              5 सितम्बर 2020 को शिक्षक दिवस के उपलक्ष्य पर श्री साई मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल एवं ट्रामा सेंटर की ओर से जिला सिरमौर के शिक्षकों के लिए निशुल्क कंसल्टेशन का उपहार दिया जा रहा है। इस ” शिक्षक दिवस” को “शिक्षक स्वास्थ्य दिवस” के रूप में मनाने के उदेश्य से श्री साई मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल एवं ट्रामा सेंटर, नाहन में शिक्षकों के स्वास्थ्य जांच निशुल्क की जाएगी। साथ ही कुछ टेस्ट जैसे सी बी सी , यूरिया, शुगर , एस जी पी टी , एस जी ओ टी, टेस्ट निशुल्क किये जाएंगे।

5 सितम्बर 2020 को श्री साई मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल एवं ट्रामा सेंटर, नाहन में जनरल फिजिशियन , कान- नाक – गला रोग विशेषज्ञ, चमड़ी रोग विशेषज्ञ, फिजिओथेरपिस्ट, नेत्र रोग विशेषज्ञ, स्त्री एवं प्रसूति रोग विशेषज्ञ, हड्डी रोग विशेषज्ञ, दन्त रोग विशेषज्ञ, कैंसर रोग विशेषज्ञ एवं आयुर्वेदिक चिकित्सक मौजूद रहेंगे। आप अपनी पुरानी रिपोर्ट्स भी साथ ले कर आएं। इस सुविधा के लिए शिक्षकों को अपना शिक्षक आई डी प्रूफ भी साथ ले कर आना होगा , ताकि निशुल्क सुविधा का लाभ ले सकें।

Shri Sai Multispeciality Hospital and Trauma Centre, Nahan

“Your Hospital for Life…”


Copyright by Shri Sai Hospital 2018. All Rights Reserved.