fbpx

मोटापा घटाने का आसान तरीका – बेरियाट्रिक सर्जरी

November 9, 2020

मोटापा घटाने का आसान तरीका – बेरियाट्रिक सर्जरी 

       कहते है मोटापा अपने साथ बिमारिओं को ले कर आता है। मोटापे के कारण शुगर , बी पी, घुटनों में दर्द, बांझपन आदि रोग उत्पन हो जाते हैं और शरीर बिमारिओं का घर बन जाता है।
वजन बढ़ तो आसानी से जाता है लेकिन घटाने में बहुत मेहनत लगती है। वजन कम करने के लिए बहुत सारे उपायों जैसे डायटिंग, जिम जॉइन करना, योगा करना इत्यादि को अपनाते हैं, लेकिन फिर भी उनकी स्थिति में कोई सुधार नहीं होता है क्योंकि वे इसे पूर्ण रूप से अपना नहीं पाते हैं और इस समस्या से परेशान रहते हैं। इस स्थिति में उनकी समस्या का समाधान केवल बेरियाट्रिक सर्जरी से ही किया जा सकता है।

यदि आप अपने मोटापे से परेशान है , लाख कोशिशों के बाद भी वजन कम नहीं कर पा रहे। तो बेरियाट्रिक सर्जरी यानी मोटापा काम करने की सर्जरी आपके पतले होने के सपने को सच कर सकती है।


श्री साईं हॉस्पिटल के बेरियाट्रिक / मेटाबोलिक सर्जरी सेंटर में मोटापा कम करने की बेरियाट्रिक सर्जरी सफलता पूर्वक की गयी। तीन महीने पहले डॉ दिनेश बेदी द्वारा की गयी सर्जरी में आज फॉलो अप में रोगी को बिलकुल स्वस्थ पाया गया। इस सर्जरी से पूर्व व्यक्ति का वजन 135 किलो था और सर्जरी के बाद तीन महीनो में व्यक्ति का वजन 100 किलो हो गया। मात्र तीन महीने के समय में 35 किलो वजन कम किया।


डॉ दिनेश बेदी ने बताया की इस केस में रोगी बहुत सालों से मोटापे से परेशान था। उसका वजन लगभग 135 किलो था और वजन कम करने के सारे प्रयास विफल हो रहे थे। लाख कोशिशों के बाद जब वजन काम नहीं कर पाए तो उन्हें बेरियाट्रिक सर्जरी की सलाह दी गयी। तीन महीने पहले उनकी बेरियाट्रिक सर्जरी की गयी और आज उनका वजन 100 किलो हो गया है। उनकी वैस्ट लाइन भी कम हुई। इस केस में गैस्ट्रिक स्लीव सर्जरी की गयी। गैस्ट्रिक स्लीव सर्जरी उस व्यक्ति पर किया जाता है, जो अत्याधिक मोटापे की समस्या से पीड़ित होता है। गैस्ट्रिक स्लीव सर्जरी में लैपरोस्कोपी उपकरण का उपयोग किया जाता है और उसकी सहायता से पेट के आकार को कम किया जाता है। अब इस सर्जरी की सुविधा श्री साई हॉस्पिटल के नाहन और अम्बाला कैंट सेंटर में उपलब्ध है।

यदि आप मोटापे से पीड़ित है बेरियाट्रिक सर्जरी के बारे में और अधिक जानना चाहते है तो संपर्क करे डॉ दिनेश बेदी , लप्रोस्कोपिक सर्जन से।


Copyright by Shri Sai Hospital 2018. All Rights Reserved.