fbpx

Notice: Trying to access array offset on value of type bool in /var/www/html/sshnahan/wp-content/themes/medicare/single.php on line 121

Notice: Trying to access array offset on value of type bool in /var/www/html/sshnahan/wp-content/themes/medicare/single.php on line 134

बवासीर रोगी की कैसी होनी चाहिए डाइट जानिए “डाइट कंसलटेंट प्रिया शर्मा” से

November 20, 2020

बवासीर जिसे पाइल्स एवं अर्श रोग भी कहा जाता है। ये रोग बेहद तकलीफदेह होता है। इस समस्या में रोगी को गंभीर कब्ज तो होती ही है, साथ ही मलद्वार में असहनीय तकलीफ, कांटों सी चुभन, मस्से एवं घाव, जलन आदि गंभीर समस्याएं होती हैं और मल द्वारा खून भी बहता है जो रोगी को कमजोर बना देती हैं।
आमतौर पर बवासीर 45 साल से 65 साल के लोगों में होने वाली बेहद सामान्य बीमारी होती है, लेकिन गलत लाइफस्टाइल की वजह से अब ये बीमारी 35-45 की उम्र के लोगों में भी होने लगी है। ऐसे में जरुरी परहेज के अलावा बवासीर रोगी को अपने खान पान का विशेष ध्यान रखना चाहिए। जिससे समस्या को बढ़ने से रोका जा सके। श्री साईं मल्टीस्पेसलैटी हॉस्पिटल एवं ट्रामा सेंटर , नाहन में डाइट कंसलटेंट प्रिया शर्मा ने बवासीर रोगियों को कैसी डाइट फॉलो करनी चाइये इस विषय पर जानकारी दी।

Priya Sharma
MSc. Dietitics & Food Management
Diet Consultant

बवासीर के लिए सहायक खाद्य पदार्थ।
बवासीर से बचने या रोकने की कोशिश करते समय, एक प्रमुख नियम यह सुनिश्चित करना है कि आपको पर्याप्त फाइबर मिल रहा है
फलियां – व सेम, दाल, मटर, सोयाबीन, मूंगफली, और छोले शामिल हैं। यह रक्तस्राव को रोकने या लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता है
साबुत अनाज-
फलियों की तरह, साबुत अनाज पोषण संबंधी पावरहाउस हैं। इस श्रेणी में जौ, मक्का, ब्राउन राइस, पूरी राई और जई भी शामिल हैं। जब आप बवासीर के लक्षणों को कम करने की कोशिश कर रहे हों तो दलिया अपने आहार में शामिल करने के लिए एक विशेष रूप से अच्छा विकल्प है।
पत्तेदार सब्जियां –
पत्तेदार सब्जियों में ब्रोकोली, फूलगोभी, मूली, शलजम और गोभी शामिल हैं
जड़ वाली सब्जियां-
शकरकंद, शलजम, बीट, गाजर, और आलू पोषण से भरे और भरे हुए हैं।
चूंकि यह कब्ज को कम करता है, यह बवासीर के लक्षणों को कम कर सकता है। फल सेब, केला फाइबर की एक प्रभावशाली मात्रा को बढ़ाएं। यह आपके मल को नरम करने में मदद करता है, तनाव को कम करता है और बवासीर से जुड़ी असुविधा को दूर करता है।

तरल पदार्थ
तरल पदार्थ-खुद को हाइड्रेटेड रखना , मल को नरम बनाने और आसान मॉल त्यागने में मदद मिलेगी।

किन खाद्य पदार्थों से बचा जाना चाहिए ?

कम फाइबर वाले खाद्य पदार्थों को सीमित करना एक अच्छा विचार है। ये कब्ज को और बढ़ा सकते हैं जो बवासीर को ट्रिगर कर सकते हैं।

दुग्ध उत्पाद- इनमें दूध, पनीर और अन्य किस्में शामिल हैं।
सफ़ेद आटा इस तरह के आटे से बने उत्पादों में सफेद ब्रेड, पास्ता शामिल हैं।
लाल मांस –  इस प्रकार के मांस से बचें, क्योंकि यह पचने में अधिक समय लेता है और कब्ज को बढ़ा सकता है।

तले हुए खाद्य पदार्थ- ये आपके पाचन तंत्र पर कठोर और पचाने में मुश्किल हो सकते हैं।

नमकीन खाद्य पदार्थ- वे सूजन का कारण बन सकते हैं और आपके बवासीर को अधिक संवेदनशील बना सकते हैं।
मसालेदार भोजन- मसालेदार भोजन बवासीर से जुड़े दर्द और परेशानी को बढ़ा सकता है।
कैफीन युक्त पेय- ये पेय, विशेष रूप से कॉफी, आपके मल को कठोर कर सकते हैं और वॉशरूम के दौरान इसे और अधिक दर्दनाक बना सकते हैं
शराब- मादक पेय आपके मल को सूख सकते हैं और बवासीर की परेशानी को बढ़ा सकते हैं।

अपने खान पान पर विशेष धयान रख कर आप बवासीर को शुरू होने से पहले ही ख़तम कर सकते है। आप हम से मिल कर अपनी डाइट चार्ट बनवा सकते है। डाइट कंसलटेंट प्रिय शर्मा , प्रतिदिन श्री साईं मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल में अपनी सेवाएं दे रहें है।


Copyright by Shri Sai Hospital 2018. All Rights Reserved.